श्योपुर फोर्ट

सीप एवं कलवाल नदी के संगम पर बना यह किला प्रस्तर शिल्प का बेजोड़ नमूना है पुरातत्व संग्रहालय हेतु यहाँ 425 बेसकीमती मूर्तियों का भी संग्रह किया गया है| यहा स्थित गूजरी महल नरसिंह महल, दरबार होल, राजा इन्द्र सिंह व राजा किशोरदास की छतरीया दर्शनीय है | किले के कुछ भवन राज्य संरक्षित घोषित हे